News
'अपना घर ही बना नर्क'
'मैरिटल रेप'
भूकंप से दिन हो जाते हैं छोटे
'न्यायाधीश को भी नहीं मिला न्याय'
ओबामा ने फिर की मोदी की तारीफ, बोले...
राहुल गांधी का एयर टिकट सोशल मीडिया पर वायरल
हिंदुत्व धर्म नहीं बल्कि जीवनशैली है : मोदी
यह युवा किसान कमाता है 10 लाख, जानिए कैसे
राजस्थान: विधानसभा में आरोप-प्रत्यारोप, जमकर हंगामा
दिल जीत लेगा व्हाट्‍सएप का यह नया लुक
WORLD
सत्य नडेला को ओबामा देंगे पुरस्कार
चीनः वृद्धि दर छह साल में सबसे कम स्तर पर
जानिये, 'रॉकऑन 2' को लेकर क्यों उत्‍साहित हैं श्रद्धा कपूर
Sports
जून में बांग्लादेश का दौरा करेगी टीम इंडिया
इस उम्र में तीसरे सबसे ज्‍यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बने हॉग
सुपर ओवर में ऐसे रुक गया RR का विजयी रथ
हमें डिविलियर्स की तरह खेलने की जरूरत है : कोहली
शोएब खुश, सानिया के साथ जश्न...
साइना नेहवाल फिर बनी विश्व नंबर एक
सौरव गांगुली होंगे भारतीय क्रिकेट टीम के नए कोच?
पोंटिंग की रणनीति मुंबई के काम आई
गेल ने बंधवाई पोलार्ड के मुंह पर पट्टी
गर्मी के कारण चेन्नई हारा : धोनी
Photos
Children
Jokes
डॉक्टर-पेशंट जोक : पच्चीस साल
Intersting
टचस्क्रीन के साथ होंडा सिटी, जानिए क्या है खास
गूगल ढूंढ़ेगा अब आपका खोया हुआ एंड्राॅयड फोन
क्या है Net Neutraility? क्यों मचा इस पर बवाल, जानें सब कुछ
डेढ़ माह फाइल दबाओ फिर हो जाएगा काम
जेनरेटर ऑपरेटर का बेटा जापान में पढ़ेगा
वर्चुअल दुनिया में कैसा भेदभाव
अक्षय तृतीया : जानिए, खरीदी के शुभ मुहूर्त व श्रेष्ठ योग
बस 5 साल और...फिर कहेंगे चल मेरे गूगल
वॉट्सऐप यूजर्स पढ़ें यह खबर, वॉट्सऐप सीईओ ने शेयर किया है कुछ नया
Career
IAS प्री पास करने पर मिलेंगे 75 हजार रुपए
एक्जाम में सफलता दिलाएंगे प्रभु श्रीराम के अचूक मंत्र
आईआईटी में खुलेगा रिवर साइंस एंड मैनेजमेंट सेंटर
Bollywood
श्रद्धा कपूर ने खोला अपने मेकअप से जुड़ा राज
मुंहासे हों या सनबर्न, गर्मियों में बहुत असरदार हैं ये उपाय
हॉलीवुड मूवी करेंगे रितिक रोशन
पीएम की राह चलीं हेमा, मथुरा को पर्यटन स्‍थल बनाएंगी
Ajab Gazab
हमें टॉप 10, 9 नुस्ख़े क्यों भाते हैं?
हमें टॉप 10, 9 नुस्ख़े क्यों भाते हैं?
इस शख्‍स को मुंहजबानी याद हैं नगर के सभी वाहनों के नंबर
Food and Cookery
रात में अच्छी नींद चाहिए तो दिन में करें यह उपाय
Poetry, Ghazal
मैं प्यासा बादल हूं
Literature
हनुमानजी से जानिए सफलता के 3 मंत्र
लघुकथा : प्यार की अठन्नी
प्रवासी कविता : नौ नक्षत्र, नौ ग्रह, नौ रस, नौ भक्ति
नहीं जानते होंगे, अकबर ने ली थी राजपूतों के बारे में यह कसम

बस 5 साल और...फिर कहेंगे चल मेरे गूगल


 गूगल के सेल्फ़-ड्राइव कार प्रोजेक्ट के निदेशक ने कहा है कि वह अगले पांच साल में इस तकनीक को अमली जामा पहनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

टेड (टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट और डिज़ाइन) कॉंफ्रेंस में क्रिस उर्मसन ने कहा कि उनका सबसे बड़ा बेटा 11 साल का है और वह 'साढ़े चार साल' में ड्राइविंग टेस्ट देगा. लेकिन मेरी टीम इसके लिए प्रतिबद्ध है कि ऐसा करने की नौबत न आए."

कुछ ऑटोमोबाइल कंपनियां कारों में ड्राइवर के सहायक फ़ीचर्स शामिल कर ही हैं ताकि पूरी तरह ऑटोमेटेड कार को लेकर ज़ाहिर आशंकाओं से भी निपटा जा सके.

लेकिन इसके विपरीत गूगल की कार जिसका एक प्रोटटाइप इलेक्ट्रिक पॉड दिसंबर में दिखाया गया था उसमें ना ही स्टीयरिंग व्हील होगा और न ही कोई और पारंपरिक कंट्रोल.

अतिरिक्त कंट्रोल

गूगल सेल्फ़ ड्राइविंग कार

शुरुआती टेस्टिंग के लिए इस कार में अतिरिक्त कंट्रोल फ़िट किए जाएंगे ताकि टेस्ट ड्राइवर दिक्कत होने की स्थिति में इस पर नियंत्रण कर सकें.

क्रिस ने कहा कि लोगों के देर तक ड्राइव करना और जाम में ज़्यादा देर तक फंसना भी दो ऐसी वजहें हैं जिनकी वजह से इस तकनीक को जल्द से जल्द उपलब्ध होना चाहिए.

क्रिस के अनुसार सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सेल्फ़ ड्राइविंग कारें नाटकीय रूप से सड़क दुर्घटनाएं कम कर सकती हैं.

गूगल की सेल्फ़-ड्राइव कारों का व्यापक परीक्षण किया गया है. इन्हें सड़कों पर सात लाख मील से ज़्यादा चलाया जा चुका है. 2013 में परीक्षण के लिए इन्हें 100 कर्मचारियों को भी दिया गया था.

'भूल जाएंगे ड्राइविंग'

 

क्रिस उर्मसन ने टेड दर्शकों के साथ इस सेल्फ़ ड्राइव कार के परीक्षण के दौरान साथ हुई कुछ मज़ेदार घटनाएं भी साझा कीं.

उन्होंने बताया कि एक बार खिलौना कार चलाते हुए एक बच्चा कार के सामने सड़क पर आ गया था और जब एक इलेक्ट्रिक व्हीलचेयर में बैठी एक महिला सड़क पर एक बत्तख का पीछा कर रही थी.

उन्होंने कहा, "हैंडबुक में यह कहीं नहीं लिखा है कि ऐसी परिस्थितियों में क्या करना है."

लेकिन दोनों ही परिस्थितियों में कार धीमी हो गई और हालात के मुताबिक प्रतिक्रिया की.

लेकिन स्टैनफ़ोर्ड में सेंटर फॉर ऑटोमोटिव रिसर्च के कार्यकारी निदेशक स्वेन बीकेर को लगता है कि पूरी तरह ऑटोमेटेड कार के विकास में थोड़ी सावधानी बरतनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि ड्राइवर विहीन कार को अब भी चरम परिस्थितियों में इंसानी निर्देश की ज़रूरत पड़ सकती है और अगर लोग नियमित रूप से गाड़ी नहीं चलाएंगे तो वह इसे भूल भी सकते हैं.


Comments :-

  Hindi English  
प्रतिक्रिया दें :  
नाम* :  
ईमेल* :  
       
2013 © National Parivartan, All Rights Reserved. Designed and Developed by Gurukul Softwares, Ajmer