News
'अपना घर ही बना नर्क'
'मैरिटल रेप'
भूकंप से दिन हो जाते हैं छोटे
'न्यायाधीश को भी नहीं मिला न्याय'
ओबामा ने फिर की मोदी की तारीफ, बोले...
राहुल गांधी का एयर टिकट सोशल मीडिया पर वायरल
हिंदुत्व धर्म नहीं बल्कि जीवनशैली है : मोदी
यह युवा किसान कमाता है 10 लाख, जानिए कैसे
राजस्थान: विधानसभा में आरोप-प्रत्यारोप, जमकर हंगामा
दिल जीत लेगा व्हाट्‍सएप का यह नया लुक
WORLD
सत्य नडेला को ओबामा देंगे पुरस्कार
चीनः वृद्धि दर छह साल में सबसे कम स्तर पर
जानिये, 'रॉकऑन 2' को लेकर क्यों उत्‍साहित हैं श्रद्धा कपूर
Sports
जून में बांग्लादेश का दौरा करेगी टीम इंडिया
इस उम्र में तीसरे सबसे ज्‍यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बने हॉग
सुपर ओवर में ऐसे रुक गया RR का विजयी रथ
हमें डिविलियर्स की तरह खेलने की जरूरत है : कोहली
शोएब खुश, सानिया के साथ जश्न...
साइना नेहवाल फिर बनी विश्व नंबर एक
सौरव गांगुली होंगे भारतीय क्रिकेट टीम के नए कोच?
पोंटिंग की रणनीति मुंबई के काम आई
गेल ने बंधवाई पोलार्ड के मुंह पर पट्टी
गर्मी के कारण चेन्नई हारा : धोनी
Photos
Children
Jokes
डॉक्टर-पेशंट जोक : पच्चीस साल
Intersting
टचस्क्रीन के साथ होंडा सिटी, जानिए क्या है खास
गूगल ढूंढ़ेगा अब आपका खोया हुआ एंड्राॅयड फोन
क्या है Net Neutraility? क्यों मचा इस पर बवाल, जानें सब कुछ
डेढ़ माह फाइल दबाओ फिर हो जाएगा काम
जेनरेटर ऑपरेटर का बेटा जापान में पढ़ेगा
वर्चुअल दुनिया में कैसा भेदभाव
अक्षय तृतीया : जानिए, खरीदी के शुभ मुहूर्त व श्रेष्ठ योग
बस 5 साल और...फिर कहेंगे चल मेरे गूगल
वॉट्सऐप यूजर्स पढ़ें यह खबर, वॉट्सऐप सीईओ ने शेयर किया है कुछ नया
Career
IAS प्री पास करने पर मिलेंगे 75 हजार रुपए
एक्जाम में सफलता दिलाएंगे प्रभु श्रीराम के अचूक मंत्र
आईआईटी में खुलेगा रिवर साइंस एंड मैनेजमेंट सेंटर
Bollywood
श्रद्धा कपूर ने खोला अपने मेकअप से जुड़ा राज
मुंहासे हों या सनबर्न, गर्मियों में बहुत असरदार हैं ये उपाय
हॉलीवुड मूवी करेंगे रितिक रोशन
पीएम की राह चलीं हेमा, मथुरा को पर्यटन स्‍थल बनाएंगी
Ajab Gazab
हमें टॉप 10, 9 नुस्ख़े क्यों भाते हैं?
हमें टॉप 10, 9 नुस्ख़े क्यों भाते हैं?
इस शख्‍स को मुंहजबानी याद हैं नगर के सभी वाहनों के नंबर
Food and Cookery
रात में अच्छी नींद चाहिए तो दिन में करें यह उपाय
Poetry, Ghazal
मैं प्यासा बादल हूं
Literature
हनुमानजी से जानिए सफलता के 3 मंत्र
लघुकथा : प्यार की अठन्नी
प्रवासी कविता : नौ नक्षत्र, नौ ग्रह, नौ रस, नौ भक्ति
नहीं जानते होंगे, अकबर ने ली थी राजपूतों के बारे में यह कसम

झूठ फैला रहे हैं, सरकार गरीबों को समर्पित: मोदी


 नई दिल्ली। अपनी सरकार पर अमीरों के हित में काम करने के आरोपों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पलटवार करते हुए कहा कि भाजपा सांसदों को इस दुष्प्रचार का डटकर जवाब देना होगा। मोदी ने सांसदों को प्रेरित करते हुए कहा कि झूठ फैला रहे हैं विपक्ष के लोग। सरकार गरीबों को समर्पित है। हम सभी फैसले गरीबों के कल्याण के लिए कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने भूमि अधिग्रहण विधेयक पर सीधे बोलने से बचते हुए किसानों को लाभ पहुंचाने की अपनी सरकार की योजनाओं का विशेष उल्लेख किया जिनमें हाल ही में बेमौसम बारिश से नुकसान उठाने वाले किसानों को 50 प्रतिशत की जगह 33 प्रतिशत नुकसान होने पर मुआवजा देने का ‘साहसिक’ फैसला शामिल है।
 
प्रधानमंत्री के भाषण में विवादास्पद भूमि अधिग्रहण विधेयक का जिक्र केवल परोक्ष रूप से किया गया, जब उन्होंने कहा कि मीडिया के एक वर्ग ने तथा कुछ दूषित सोच वाले लोगों ने इस महीने बेंगलुरु में भाजपा की राष्ट्रीय परिषद के सम्मेलन में दिए गए उनके भाषण को गलत तरह से पेश किया।
 
मोदी ने पार्टी सांसदों और अन्य कार्यकर्ताओं से गरीबों के लिए पिछली सरकारों तथा राजग सरकार के कामकाज के अंतर को उजागर करने को कहा और इस बात पर जोर दिया कि का कल्याण करने की बात उनके दिल के करीब है।
 
उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के इस बयान को लेकर निशाना साधा कि 1 रुपए में से गरीब तक केवल 15 पैसे पहुंचते हैं।
 
मोदी ने कहा कि आपको केवल विश्लेषण नहीं करना बल्कि मर्ज का इलाज भी करना है। संसद के बजट सत्र के दूसरे चरण की शुरुआत से 1 दिन पहले पार्टी सांसदों को संबोधित कर रहे मोदी ने उनकी 10 महीने पुरानी सरकार की शुरू की गई योजनाओं को रेखांकित किया और कहा कि ये सब गरीबों के कल्याण के लिए है।
 
मोदी ने भाजपा सांसदों से कहा कि अपना सर ऊंचा रखें, आत्मविश्वास के साथ रहें और लोगों को बताएं कि हम उनके लिए क्या कर रहे हैं, वे आपकी प्रशंसा करेंगे। मैं जो भी फैसले ले रहा हूं, वो गरीब के कल्याण के लिए हैं। मुद्रास्फीति में गिरावट और सीमेंट के दाम कम होने के उदाहरण देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि ये उनकी सरकार की योजनाओं के नतीजे हैं जिनसे गरीब को फायदा हुआ है।
 
उन्होंने कहा कि कुछ लोगों की यह जन्मजात आदत है कि भाजपा की आलोचना करो। उन्हें हमारी आलोचना का अधिकार है लेकिन उन्हें खुद को निष्पक्ष कहने का हक नहीं है। मैं हमेशा से गरीब की बात करता रहा हूं, उनके लिए काम कर रहा हूं।
 
मोदी ने कहा कि कुछ लोगों ने तय कर लिया है कि कोई अच्छी बात नहीं सुनेंगे, कुछ अच्छा नहीं कहेंगे और कोई अच्छी चीज नहीं देखेंगे। हमें उन लोगों पर वक्त बर्बाद नहीं करना चाहिए बल्कि उन लोगों पर ध्यान देना चाहिए, जो सुनना चाहते हैं। आपको और सक्रिय होना चाहिए और लोगों को बताना चाहिए कि हम क्या कर रहे हैं। मीडिया क्या कह रहा है, उसकी फिक्र मत कीजिए।
 
राजग सरकार के गरीब हितैषी होने के तर्क को पुख्ता तरीके से रखने के लिए प्रधानमंत्री ने जनधन योजना और गरीबों के खाते में सब्सिडी के सीधे अंतरण जैसी योजनाओं की बात की और मनरेगा में लीकेज को रोकने के प्रयासों का भी उल्लेख किया।
 
उन्होंने पार्टी सांसदों और कार्यकर्ताओं से कहा कि आपको इस संदेश को प्रसारित करना है। आपको पिछली सरकारों और हमारी सरकार द्वारा किए गए कार्यों के बीच अंतर उजागर करना है। टेलीविजन के इतिहास में ‘श्वेत श्याम’ और ‘रंगीन’ दौर के फर्क का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि पिछली सरकारों और मौजूदा सरकार की नीतियों के बारे में तुलना समान आधार पर होनी चाहिए।
 
मोदी ने मनरेगा योजना के बारे में कहा कि देश में कहीं भी इस योजना के क्रियान्वयन में कोई भी गड़बड़ी पाई जाती है तो उन्हें पत्र लिखे जाने चाहिए कि हमारा इरादा गरीब को फायदा पहुंचाने का है। जब ग्रामीणों को क्रयशक्ति मिलेगी तो वे गांवों तथा शहरों के विकास में मददगार होंगे।
 
उन्होंने कहा कि ओलावृष्टि से किसानों को पहले भी नुकसान हुए हैं लेकिन इस तरह के फैसले पहले कभी नहीं लिए गए। पहले मुआवजा तब दिया जाता था, जब कम से कम 50 फीसद फसलों को नुकसान हुआ हो। हमने साहसिक फैसला लिया कि 33 प्रतिशत फसल का नुकसान होने पर भी मुआवजा दिया जाएगा तथा मुआवजे की राशि भी डेढ़ गुना बढ़ा दी गई है।
 
उन्होंने कहा कि गेहूं की फसल को गुणवत्ता के मामले में भी नुकसान हुआ है और सरकार ने तब भी उसकी खरीद का निर्णय लिया है, क्योंकि हम गरीबों के हितैषी हैं।
 
मोदी ने अपने घंटेभर के भाषण में अपनी सरकार की गरीब समर्थक योजनाओं पर ज्यादा ध्यान केंद्रित रखा और बीच-बीच में मीडिया के एक तबके समेत अपने आलोचकों पर हमले करते रहे।
 
उन्होंने कहा कि आपने देखा होगा कि कैसे छोटी-छोटी बातों का बतंगड़ बनाया गया। चूंकि उनके पास बड़े कामों पर निशाना साधने के लिए कुछ नहीं है इसलिए छोटी घटनाओं का बढ़ा-चढ़ाकर दिखा रहे हैं।
 
प्रधानमंत्री ने इस संबंध में विस्तार से तो कुछ नहीं कहा लेकिन उनकी उक्त टिप्पणी को कुछ केंद्रीय मंत्रियों और पार्टी सांसदों के विवादास्पद बयानों तथा संघ से जुड़े कुछ लोगों की कथित गतिविधियों से जोड़कर देखा जा रहा है।
 
आलोचकों का कहना है कि प्रधानमंत्री के बार-बार नामंजूर करने के बावजूद इस तरह की घटनाएं जारी रहीं।
 
मोदी ने कहा कि हम गरीबों के लिए काम कर रहे हैं, खबरों में रहने के लिए नहीं। लेकिन अगर हम यह नहीं करते तो हम चैन से सो नहीं सकते। हम गरीबों के लिए जीते हैं। हम सत्ता का आनंद उठाने के लिए सार्वजनिक जीवन में नहीं हैं बल्कि गरीबों के कल्याण के लिए हैं।
 
उन्होंने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और विश्व बैंक तथा अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष के प्रमुख, सभी मानते हैं कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है।
 
उन्होंने कहा कि अगर कोई करीब से देखेगा तो उसे पता चलेगा कि हमारे प्रयास आम जनता की मदद के लिए हैं, उस नव मध्यम वर्ग की मदद के लिए हैं, जो किसी कीमत पर अपनी झुग्गियों में वापस नहीं जाना चाहता। हमारे प्रयास गरीबों को सशक्त करने के लिए हैं। मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ‘राष्ट्रनीति’ से चलती है, राजनीति से नहीं।
 

 

उन्होंने कहा कि राजनीति कहती है कि हमें सरकारी खजाना बर्बाद कर देना चाहिए। इसे बांटो और जनता की तारीफ बटोरो। इस राजनीति ने देश को बर्बाद कर दिया है। केवल राष्ट्रनीति ही देश को बचा सकती है। यह कहती है कि गरीब को सशक्त बनाना चाहिए।

 


Comments :-

  Hindi English  
प्रतिक्रिया दें :  
नाम* :  
ईमेल* :  
       
2013 © National Parivartan, All Rights Reserved. Designed and Developed by Gurukul Softwares, Ajmer